Aag ka Dariya

Aag ka Dariya आग का दरिया
Aag ka Dariya
Kuch log sitam karne ko taiyar bethe hain
Kuch log ham par dil haar baithe hain
Ishq ko aag ka dariya hi samajh lijiye
Kuch is paar to kuch us paar baithe hain

कुछ लोग सितम करने को तैयार बैठे हैं
कुछ लोग हम पर दिल हार बैठे हैं
इश्क को आग का दरिया ही समझ लीजिये
कुछ इस पार तो कुछ उस पार बैठे हैं


Aag ka Dariya आग का दरिया

Agar wo parayon ki sunega to haar jayga
Hum jaisa pyar fir kahan payga
Jaan dene ki baat to sab karte hain
Zindgi banane wala kahan se layga

अगर वो परायों की सुनेगा तो हार जायगा
हम जैसा प्यार फिर कहाँ पायगा
जान देने की बात तो सब करते हैं
जिंदगी बनाने वाला कहाँ से लायेगा

In ankho se sapne churaya na karo.
Hamari dosti ko azmaya na karo.
Tumare ek message ke badle 100 call kar doon.
Par shart ye he ki,
Tum phone uthaya na karo 🙂

इन आँखों से सपने चुराया न करो.
हमारी दोस्ती को अजमाया न करो.
तुम्हारे एक मैसेज के बदले 100 कॉल कर दूं.
पर शर्त ये है कि, तुम फ़ोन उठाया न करो 🙂

Aag ka Dariya आग का दरिया

Chingari ka khauf na do hame,
Dil me aag ka dariya basaye baithe hain
Jal jaate kab ke is aag me
Magar khud ko aansuon me bhigoye baithe hain.

चिंगारी का खौफ न दो हमें,
दिल में आग का दरिया बसाये बैठे हैं
जल जाते कब के इस आग में
मगर खुद को आंसुओं में भिगोये बैठे हैं.

In haseeno se to kafan accha hai,
jo marte dam tak saath jata hai,
ye to zinda logo se muh mod leti hain,
kafan to murdo se bhi lipat jata hai.

इन हसीनो से तो कफ़न अच्छा है,
जो मरते दम तक साथ जाता है,
ये तो जिंदा लोगो से मुह मोड़ लेती हैं,
कफ़न तो मुर्दों से भी लिपट जाता है.

Raat sunti rahi hum sunate rahe,
dard ki daastaan hum batate rahe,
mita na sake yaaden jinki dil se,
naam likh-likh kar unka mitate rahe.

रात सुनती रही हम सुनाते रहे,
दर्द की दास्ताँ हम बताते रहे ,
मिटा न सके यादें जिनकी दिल से,
नाम लिख लिख कर उनका मिटाते रहे.