Dard Bhare SMS – आंसू पीते हैं प्यास बुझाने के लिये

Pal ne kaha ek pal se,
Pal bhar ke liy tum mere ho jao,
Par pal bhar ka sath kuch aisa ho
ki Har pal tum hi tum yaad aao..!

पल ने कहा इक पल से
पल भर के लिये तुम मेरे  हो जाओ
पर पल भर का साथ कुछ ऐसा हो
कि हर पल तुम ही तुम याद आओ।


Aansu pite hain pyas bujane ke liye,
aag humne hi lagai thi khud ko jlane ke liye.
Is janam me to mumkin nahi,
aur janam lagenge aapko bhulane k liye.

आंसू पीते हैं प्यास बुझाने के लिये
आग हमने ही लगायी थी खुद को जलाने के लिये
इस जनम में तो मुमकिन नहीं
और जनम लगेंगे आपको भुलाने के लिये

Hamari Zindgi hai dosto ki Amaant
Rakhna mere Khuda sada unko salamat.
Dena unhe khushian sare jahan ki
Ban jaye woh Taarif har ek Zubaan ki.

हमारी जिंदगी है दोस्तों की अमानत
रखना मेरे खुदा सदा उनको सलामत
देना उन्हें खुशियां सारे जहां की
बन जाये वो तारीफ हर एक जबान की।

Jagaya unhone aisa ki aajtak so na sake
rulaya unhone aisa ki sabke samne ro bhi na sake.
jane kya baat thi unme
jabse mana unhe apna
tab se kisi ke ho na sake.

जगाया उन्हों ने ऐसे कि आज तक सो ना सके
रुलाया उन्होंने ऐसे कि सब के सामने रो भी ना सके
जाने क्या बात थी उनमें
जबसे माना उन्हों ने अपना
तब से किसी के हो ना सके।

Baatein karke rula na dijiyega
U chup rehke saja na dijiyega.
Na de sake khushi to gam he shi
Per dost bna ke u,bhula na dijiyega.

बातें करके रुला ना दीजियेगा
यूं चुप रहके सजा ना दीजियेगा
ना दे सके खुशी तो गम ही सही
पर दोस्त बनके यूं भुला ना दीजियेगा।

Uski baaton ko baar-2 yaad kar ke roye,
Uske liye dar pe fariyad kar ke roye.
Uski khushi k liye use chhod diya,
phir use kisi or k sath aabaad kar ke roye.

उसकी बातों को बार बार याद करके रोये
उसके लिये दरपे फरियाद करके रोये
उसकी खुशी के लिये उसे छोड़ दिया
फिर उसे किसी और के साथ आबाद करके रोये।

Kya pta tha koi hume bhi
saanson ki tarah chahta hoga,
Khabar na thi koi humari bhi
raahon mein palken bichhata hoga,
Sada maangte rahe dua
hum gairon ki khatir,
Na tha socha koi humare liye bhi
haath failaata hoga.

क्या पता था कोई हमें भी
सांसों की तरह चाहता होगा
खबर ना थी कोई हमारी भी
राहों में पलकें बिछाता तो होगा
सदा मांगते रहे दुआ हम गैरों की खातिर
ना था सोचा कि कोई हमारे लिये भी
हाथ फैलाता तो होगा।