Dil ki Yaad Hindi Status

Dil ki Yaad Hindi Status दिल की याद हिंदी स्टेटस

मोहब्बत को मजबूरी का नाम मत देना,
हक़ीक़त को हादसों का नाम मत देना,
अगर दिल में हो प्यार किसी के लिए तो,
उसे कभी दोस्ती का नाम मत देना…!!.

Mohabbat Ko Majburi Ka Naam Mat Dena,
Hakeeqat Ko Haadson Ka Naam Mat Dena,
Agar Dil Mein Ho PYAR Kisi Ke Liye To,
Use Kabhi DOSTI Ka Naam Mat Dena…!!.

कुछ खोए बिना हमनें पाया है,
कुछ माँगे बिना हमे मिला है,
नाज़ है हमें अपनी तकदीर पर
जिसने आप जैसे दोस्त से मिलाया है !

Kuch khoye bina hamnen paya hai,
kuch mange bina hame mila hai,
naaz hai hamen apni takdir par
jisane aap jaise dost se milaya hai !

Dil ki Yaad Hindi Status दिल की याद हिंदी स्टेटस

पल दो पल की खुशियों के लिए,
साथ जो तेरा छोड़ा है, उमर भर के लिए,
हमने दुखों से नाता जोड़ा है,
तुम संग कितने खुश थे हम,
मेरे दर्द के आगे आज आसमान भी थोडा है,
तुम थे हमारे, तो बेगाने भी अपने थे,
जाते ही तेरे मेरे अपनों ने भी मुहं  मोड़ा है

Pal do pal ki khushiyon ke liye,
Sath jo tera choda hai, Umar bhar ke liye,
Humne dukho se nata joda hai,
Tum sang kitne khush the hum,
Mere dard ke aage aaj Asmaan bhi thodda hai,
Tum the hamare, To begane bhi apne the,
Jate hi tere mere apno ne bhi muhh moda hai

इस हवा मे खुश्बू है तुम्हारी,
इस चाँद की रोशनी मे सूरत है तुम्हारी,
इस दिल से जो मार कर भी जुड़ा ना हो सके,
वो सिर्फ़ ओर सिर्फ़ दोस्ती है तुम्हारी

Is hawa me khushbu hai tumhari,
Is chand ki Roshni me surat hai tumhari,
Is Dil se jo mar kar bhi juda na ho sake,
Wo sirf or sirf dosti hai tumhari

Dil ki Yaad Hindi Status दिल की याद हिंदी स्टेटस

मोहब्बत की हर गली गुमनाम क्यों हैं,
जुदाई और मौत इश्क़ का अंजाम क्यों हैं,
लोग देते है इसे नाम खुदा का,
तो फिर यह मोहब्बत इतनी बदनाम क्यों है.

Mohabbat ki har gali gumnam kyon hain,
judai aur maut ishq ka anjaam kyon hain,
log dete hai ise naam khuda ka,
toh phir yeh mohabbat itni badnaam kyon hai.

दिल ज़िंदगी से बेज़ार है मालूम नही क्यों,
सीने मे साँस है मालूम नही क्यों.
इक़रार ए वफा यार ने हर एक से किया,
मुझ से ही बस इनकार है मालूम नही क्यों.

Dil zindagi se bezar hai malum nahi kyon,
Seene me saans hai malum nahi kyon.
Iqrar e wafa yaar ne har ek se kiya,
Mujh se hi bas inkar hai malum nahi kyon.