Dost ko Bhoolana Hindi Status

Dost ko Bhoolana Hindi Status दोस्त को भूलना हिंदी स्टेटस

Dost ko Bhoolana Hindi Status
Dost ko Bhoolana Hindi Status
Waqt badalta hai halat badal jate hain
Ye sab dekh kar jazbat badal jate hain
Ye kuch nahi bas waqt ka taqaza hai dosto
Kabhi ham to kbhi aap badal jate hain

वक़्त बदलता है हालात बदल जाते हैं
ये सब देख कर जज़्बात बदल जाते हैं
ये कुछ नही बस वक़्त का तक़ाज़ा है दोस्तो
कभी हम तो कभी आप बदल जाते हैं


Muskurana hi khushi nahi hoti,
Umar bitana hi zindagi nahi hoti,
Khud se bhi zyada khyal rakhna padata hai doston ka.
Kyun ki…
Dost kehna hi dosti nahi hoti.

मुस्कुराना ही खुशी नही होती,
उमर बिताना ही ज़िंदगी नही होती,
खुद से भी ज़्यादा ख्याल रखना पड़ता है दोस्तों का.
क्यूँ क़ि…
दोस्त कहना ही दोस्ती नही होती.

Dost ko Bhoolana Hindi Status

Kitabon ke panno ko palat ke sochta hun,
Yun palat jaye meri zindgi to kya bat hai.
Khwabon me roj milta hai jo
hakikat mein aye to kya bat hai,
Kuch matalab ke liye dhundhte hain mujhko,
Bin matalab jo aye to kya bat hai,
Katl kar ke to sab le jayenge dil mera
koi baton se le jaye to kya bat hai,
Apne rahane tak to khushi dunga sab ko,
Jo kisi ko MERI maut pe khushi mil jaye to kya bat hai.

किताबों के पन्नो को पलट के सोचता हूँ,
यूँ पलट जाए मेरी ज़िंदगी तो क्या बात है.
ख्वाबों मे रोज मिलता है जो
हक़ीकत में आए तो क्या बात है,
कुछ मतलब के लिए ढूँढते हैं मुझको,
बिन मतलब जो आए तो क्या बात है,
कत्ल कर के तो सब ले जाएँगे दिल मेरा
कोई बातों से ले जाए तो क्या बात है,
अपने रहने तक तो खुशी दूँगा सब को,
जो किसी को मेरी मौत पे खुशी मिल जाए तो क्या बात है.

Dost ko Bhoolana Hindi Status

Dost ko bhoolana galat baat hai.
Unhi ka to jindagi bhar saath hai.
Agar bhul gaye to sirf khali haath hai,
agar sath rahe to zamana kahega
-“kya baat hai”

दोस्त को भूलना ग़लत बात है.
उन्ही का तो जिंदगी भर साथ है.
अगर भूल गये तो सिर्फ़ खाली हाथ है,
अगर साथ रहे तो ज़माना कहेगा
-“क्या बात है”

Kyun marate hain log hasinao pe itna
Pyasa koi dasht me pani ko tarsta ho
Dekhi nahi kabhi diwangi itni
Ho aasma pe badal or Jheel pe barsta ho

क्यूँ मरते हैं लोग हसिनाओ पे इतना
प्यासा कोई दश्त ( रेगिस्तान) मे पानी को तरसता हो
देखी नही कभी दीवानगी इतनी
हो आस्मां पे बादल ओर झील पे बरसता हो