Dosti Ka Rishta

Dosti Ka Rishta

यही वफ़ा का सिला है तो कोई बात नही
ये दर्द तुमने दिया है तो कोई बात नही
मज़ाल कि कोई कहे मुझे दीवाना
अगर ये तुमने कहा है तो कोई बात नही

Yahi wafa ka sila hai to koi baat nahi
Ye dard tumne diya hai to koi baat nahi
Mazaal ki koi kahe mujhe diwana
Agar ye tumne kaha hai to koi baat nahi

मोहब्बत मेरी उनको बेकरार करेगी,
हर धड़कन उनका ही इंतजार करेगी
हमने तो उनसे ऐसा प्यार किया है कि,
बेवफ़ाई भी सौ जनम तक इंतजार करेगी

Mohabbat Meri Unko Bekraar Karegi,
Har Dhadkan Unka Hi intajaar Karegi
Hamne To Unse aisa Pyar Kiya Hai Ki,
Bewafai bhi sau Janam tak intajar Karegi

दीवार-ए-दर्द पे फरियाद लिखते है
हर रात तन्हाई को आबाद करते हैं
ए खुदा उन्हे खुश रखना
जिन्हे हम तुझ से ज़्यादा याद करते हैं

Diwar-e-Dard pe fariyad likhte hai
Har rat tanhayi ko abaad karate hain
Ae Khuda unhe khush rakhna
jinhe ham tujh se jyada yaad karate hain

हर आहट एहसास हमारा दिलाएगी,
हर हवा खुश्बू हमारी लाएगी,
भर देंगे इतनी यादे आपके दिल मे
कि ना चाहते हुए भी आपको याद हमारी आएगी

Har aahat ehsaas hamara dilayegi,
har hawa khushbu hamari layegi,
bhar denge itni yade apke dil me
ki na chahte hue bhi aapko yaad hamari aayegi.

दोस्ती का रिश्ता दो अंजानो को जोड़ देता है,
हर कदम पर जिंदगी को नया मोड़ देता है,
वो साथ देते हैं तब,
जब अपना साया भी साथ छोड़ देता है.

Dosti ka rishta do anjano ko jod deta hai,
Har kadam par jindagi ko naya mod deta hai,
Wo saath dete hain tab,
Jab apna saaya bhi saath chhod deta hai.