Pyaar Ke Udasi Bhare SMS

Pyaar Ke Udasi Bhare SMS

Pyaar Ke Udasi Bhare SMS
दिल में न हो जरूरत तो महोब्बत नहीं मिलती
खैरात में इतनी बड़ी दौलत नहीं मिलती
कुछ लोग यूं ही शहर में हम से भी खफा हैं
हर एक से अपनी भी तबीयत नहीं मिलती
देखा था जिसे मैंने कोई और था शायद
वो कौन है जिस से तेरी सूरत नहीं मिलती
हंसते हुए चेहरों से है बाजार की जीनत
रोने को यहां वैसे भी फुरसत नहीं मिलती

Dill Main Na Ho Jurrat Tu Mohabbat Nahi Milti
Khairaat Main Itni Bari Doulat Nahi Milti
Kuch Log Yoon Hi Sheh’r Main Hum Sey Bhi Khafa Hain
Har Aik Sey Apni Bhi Tabiyat Nahi Milti
Dekha Tha Jisey Main Nay Koi Aur Tha Shaiyad
Wo Koun Hay Jis Sey Teri Sourat Nahi Milti
Hanstey Howe Chehroo.N Sey Hay Bazaar Ki Zeenat
Roney Ko Yahan Waise Bhi Fursat Nahi Milti


रास्ते खुद ही तबाही के निकाले हमने
कर दिया दिल किसी पत्थर के हवाले हमने
हां हमें मालूम है क्या चीज है मोहब्ब्त यारो
अपना ही घर जला के देखे हैं उजाले हमने

Raastay Khud Hi Tabahi K Nikalay Humnay ,
Kar Diya Dil Kisi Patthar K Hawalay Humnay ,
Haan!! Hume Maalum Hai Kya Cheez Hai Mohabbat Yaaro,
Apna Hi Ghar Jala K Dekhay Hai Ujjalay Humne..

वो हमारे नहीं तो क्या गम है
हम तो उन्हीं के हैं ये क्या कम है
न गम कम है न आंसूं कम हैं
देखते हैं रुलाने वाले में कितना दम है

Woh Hamare Nahi Toh Kya Ghum Hai
Hum Toh Unhi Ke Hain Yeh Kya Kam Hai.
Na Gum Kam Hain Na Aansu Kam Hain
Dekhte Hain Rulane Wale Mein Kitna Dam Hai

कसूर न उनका था न हमारा
हम दोनों ही रिश्तों की रस्म निभाते रहे
वो दोस्ती के अहसास जताते रहे
हम महोब्बत को दिल में छुपाते रहे

Kasoor Na Unka Tha Na Hamara,
Hum Dono Hi Rishto Ki Rasam Nibhate Rahe,
Woh Dosti Ka Ehsaas Jatate Rahe,
Hum Mohabbat Ko Dil Me Chhupate Rahe.

हम रूठें तो किसके भरोसे
कौन है जो आयेगा हमें मनाने के लिये
हो सकता है तरस आ भी जाये आपको
पर दिल कहां से लाऊं आपसे रूठ जाने के लिये

Hum Ruthe To Kiske Bharose,
Kaun Hai Jo Aayega Hume Manane Ke Liye,
Ho Sakta Hai Taras Aa Bhi Jaye Aapko,
Par Dil Kaha Se Laau Aapse Ruth Jane K Liye.

सिर्फ चाहने से बात नही होती
सूरज के सामने कभी रात नहीं होती
हम चाहते हैं जिन्हे जान से भी ज्यादा
वो सामने हैं पर बात भी नहीं होती

Sirf Chahne Se Koi Baat Nahi Hoti,
Suraj Ke Samne Kabhi Raat Nahi Hoti,
Hum Chahte Hai Jinhe Jaan Se Bhi Jyada,
Wo Samne Hai Par Baat Bhi Nahi Hoti.

गमों मे रहते रहते
खुशी का तराना भूल गये
तेरी याद में आंसूं बहाते बहाते
हम मुस्कुराना भूल गये

Ghamo Main Rehte Rehte,
Khushi Ka Tarana Bhool Gaye,
Teri Yaad Main Aansu Bahate Bahate,
Hum Muskurana Bhool Gaye.

गम में भी मुस्कुराना चाहता हूं मैं
तुम्हें भुला के इक नयी दुनिया बसाना चाहता हूं मैं
मगर न जाने क्यों निकल आते हैं आंसू
जब भी तुम्हें भुलाना चाहता हूं मैं

Gamo Mai Bhi Muskurana Chahta Hu Mein,
Tumhe Bhulake Ek Nayi Duniya Basana Chahta Hu Mein,
Magar Na Jane Kyun Nikal Ate Hai Ashoo,
Jab Bhi Tumhe Bhulana Chahta Hu Mein.

रोज सुबह खुद से इक वादा करता हूं
तुम्हें इस दिल से भुलाने का इरादा करते हैं
अपनी ही बात से मुकर जाते हैं मालूम नहीं क्यों
भीगती आंखों को ख्वाब तोड़ने के लियी आमादा करते हैं

“Roz Subha Khud Say Ek Wadah Kartay Hain
Tujhay Iss Dil Say Bhulanay Ka Irada Kartay Hain
Apni He Baat Say Mukkarr Jatay Hain Maloom Nahi Kyoun
Bheegti Ankhon Ko Khuwab Tornay Ke Liye Amaadah Kartay Hain”