Udaasi Bhare SMS

Udaasi Bhare SMS

मेरे पास से वो गुजरे मेरा हाल तक न पूछा
मैं कैसे यकीं कर लूं कि वोह दूर जा करके रोये

Mere Paas Se Woh Gujri Mera Haal Tak Na Pucha..
Me Kaise Yakin Kar Lu Ki Woh Door Jakar Ke Roi.


लोग कहते हैं.. वाह कैसी शबनम छायी है
लोग कहते हैं.. वाह कैसी शबनम छायी है
उन्हें क्या मालूम चांद ने रो के रात बितायी है…

Log Kehte Hein , Wah Kaise Shabnam Chhai Hai,
Log Kehte Hein….Wah Kaise Shabnam Chhai Hai,
Unhe Kya Maloom, Chand Ne Ro Ke Raat Bitai Hai …

शाम होते ही चिरागों को बुझा देता हूं
ये दिल ही काफी है तेरी याद में जलने के लिये

Shaam Hote Hi Chiragon Ko Bujha Deta Hoon
Yeh Dil Hi Kaafi Hai Teri Yaad Main Jalne Ke Liye

जाने कितने अरमान बेवजह आंसुंओं में ढल जाते हैं
होता है कभी यूं भी
के तबस्सुम से लब छिल जाते हैं

Udaasi Bhare SMS

Aane Kitne Armaan Bevajeh Aansuon Mein Dhal Jaate Hain…
Hota Hai Kabhi Yoon Bhi Ke Tabbasum Se Lub Chhil Jaate Hain …

रास्ते में गिरे हैं फूल उठाता है कोई कोई
महोब्बत करते हैं सभी निभाता है कोई कोई

Raste Main Gire Hain Phool, Uthata Hai Koi Koi
Muhabbat Karte Hain Sabhi, Nibhata Hai Koi Koi…

हर उदासी दिल पर छायी हुयी
हर खुशी है मुझसे घबरायी हुई
और क्या रखा है जिंदगी के दामन में
चंद कलियां हैं वो भी मुरझायी हुई

Har Udaasi Dil Par Chayi Hui,
Har Khushi Hai Mujse Ghabrai Hui,
Aur Kya Rakha Hai Zindagi Ke Daaman Me,
Chand Kaliya Hai Vo Bhi Murjhaai Hui

दुआ तो याद नहीं बस फकत इतना याद है
दो हथेलियां थीं एक तेरी थी एक मेरी थी

Dua Toh Yaad Nahin , Bas Fakat Itna Yaad Hai,
Doo Hatheliyan Thi ,Ek Teri Thi Ek Meri Thi,

रूठ गयी है मुझको मनाने वाली
अब कोई नहीं नाज मेरे उठाने वाली
पर जाने क्या सोचता है यह खुला दरवाजा
शायद रास्ता भूल गयी आने वाली

Ruth Gayi Hai Mujhko Manane Waali
Ab Koi Nahi Naaz Mera Uthaane Waali
Per Jaane Kya Sonchta Hai, Yeh Khula Darwaaza
Shayad Rasta Bhool Gaya, Aaane Waaali