WhatsApp Shayari in Hindi

 WhatsApp Shayari in Hindi


कल खुद ही अपनी महफिल से निकला था
आज हुए से दीवाने ढूंढते है.
मुसाफिर बे-खबर है तेरी आँखों से,
तेरे शहर में मयखाने ढूंढते है.
Kal khud hi apni mehfil se nikala tha
aaj hue se deewaane dhundte hai.
Musafir be-khabar hai teri aankhon se,
tere shahar mei maikhaane dhundte hai.
करके मुझे दीवाना जा रहे हो क्यों,
कैसे किया था हमसफ़र बनने का वादा,
ये जरा लिख देना!
अगर तेरी नज़रो में मेरा प्यार एक जुर्म है तो
तुम अपनी तरफ से
मुझे कोई सजा लिख देना.
Karke mujhe deewana jaa rahe ho kyo,
Kaise kiya tha Humsafar banne ka Vada,
Ye jara likh dena!
Agar teri nazaro me mera pyar Ek zurm hai to
Tum apni taraff se
Mujhe koi Saza Likh dena.
WhatsApp Shayari in Hindi व्हाट्सअप्प शायरी
भुलाकर तो देखो एक बार हमे,
जिंदगी की हर अदा तुमसे रूठ जायेगी.
जब भी सोचोगे अपनों के बारे में,
तुम्हे हमारी याद ज़रूर आयेगी.
Bhulakar to dekho ek baar hume,
Zindagi ki har adaa tumse rooth jayegi.
jab bhi sochoge apno ke baare mein,
tumhe hamari yaad zaroor ayegi.
काश सूरत आपकी इतनी प्यारी न होती
काश आपसे मुलाक़ात हमारी न होती
सपनो में ही हम देख लेते आपको
तो आज मिलने की इतनी बेकरारी न होती
Kaash surat apki itni pyari na hoti
kaash aapse mulaqat
hamari na hoti
sapno me hi hum dekh lete aapko
to aaj milne ki itni bekarari na hoti
WhatsApp Shayari in Hindi व्हाट्सअप्प शायरी
नाज़ुक सी चोट से शीशा न टूटे,
छोटी-छोटी बातों से अपने न रूठे,
थोडी सी भी फ़िक्र है अगर आपको हमारी,
तो कोशिश कीजियेगा..
रिश्तो की ये डोर कभी न टूटे.
Nazuk si chot se sisha na tute,
chhoti-2 baton se apne na ruthe,
thodi si b fikr hai agar apko hmari,
to kosish kijiyega..
rishto ki ye dor kabhi na tute.

0 Comments: